Home



हमारे लोक देवता

सत्यवादी वीर तेजाजी

Learn More


मेरा राम छोटूराम

किसान मसीहा दीनबन्धु सर छोटूराम

Learn More

पीड़ा से जन्म लिया हमारी शुरू से किस्मत माड़ी
जब फसल हमारी है क्यों तय करते मूल्य व्यापारी

आज कह दो सरकारों से इसे बेचे लगाकर बोली
हम कच्चे बम्ब जैसे बताओ हमारी कैसी दीवाली

चुनाव जीत छुप जाती है जाने कहाँ ठगों की टोली
हम तो कच्चे रंग जैसे बताओ हमारी कैसी होली

हथियार ही रखे है पर अभी तक चलाने नही है भूले
आज तक भी रायफल की नाल के मुंह रखे हैं खुले

 

 

Jat Regiment

Next Steps…

1.चौ छोटूराम के शब्दों में गांव ओर किसान ही इस देश की रीढ़ है ।
2.चौ चरणसिंह के शब्दों में खुशहाली का रास्ता गांव के खेतों खलिहानों से होकर गुजरता है ।
3. चौ देवीलाल के शब्दों में असली भारत गांव में बसता है ।
4. बाबा महेंद्र सिंह टिकैत के शब्दों में विकास की दौड़ में गांव की हिस्सेदारी बिना देश आगे नही बढ़ सकता ।


Call to Action