badnam Mankirt Aulakh – Punjabi Song Hindi Lyrics

badnam Mankirt Aulakh

Manikirt Aulakh एक भारतीय पंजाबी गायक, अभिनेता और संगीत निर्माता है।

उनका जन्म हरियाणा के फतेहाबाद जिले के aulakh गोत्री  जाट परिवार में हुआ था और वर्तमान में मोहाली में रह रहा है।

उन्होंने 2013 में एक गायक के रूप में अपनी शुरुआत की। इससे पहले, वह एक खिलाड़ी थे।

उन्होंने Darshan Karke गीत के साथ अपनी शुरुआत की जिसे 22 नवंबर 2013 को मूवीबॉक्स रिकॉर्ड लेबल द्वारा रिलीज़ किया गया था।

इस गीत का संगीत DJ Sanj ने दिया था। उसके बाद, वह गीत काका जी के साथ आया था |

जो फरवरी 2014 में जारी हुआ। यह गीत स्पीड रिकॉर्ड्स द्वारा जारी किया गया था।

गीत गुप्ज सेहरा ने लिखा था। यह गाना Manikirt Aulakh के करियर में सफल साबित हुआ था।

काका जी Manikirt Aulakh के लिए प्रसिद्धि ट्रैक था।

उसके बाद वह Pub Ch Boliyan, Disco Ch Bhangra, Versace, Tere Bina, Aggi Teri Maa, Jugaadi Jatt,

Gallan Mithiya, Jatt Da Blood, Munda Guggu Gill Warga, Harley 7 Lakh Da, Charda Siyaal, Chorey Wali Baah,

Kadar, Badnam, Daang, Khyal, Kuwari, Chandigarh and youth (Latest). and Badnam आदि गीतों में सफल होते चले गये |

badnam Mankirt Aulakh

जम्मेया सी जदो मैं

पंगुडे विच पेया सी
रोंदा वेख बापू जी ने
हत्था विच चके लिया सी ओये..

जम्मेया नु दिन तो महीने हुँदै गए
यार हुने थोड़े जे कमीने हुँदै गए
पहली गाल चाचा जी ने कडनी सिखाई

पेहली गाल चाचा जी ने कडनी सिखायी
गाला कडदा सी बिल्ला फिर आम हो गया

(हिन्दी-

जन्म जब मेरा हुआ था

तभी से पंगे में पड़ गया था

रोता देख कर पिता जी ने

मुझे हाथो में उठा लिया

जन्म के बाद दिन व महीने बीतते चले गये

दोस्त जो थोडा से थे वो कमीने होते चले गये

पहली गाली बोलनी चाचा जी ने सिखा दी

बात बात पे गाली देना फिर मेरी आदत बन गया )

badnam Mankirt Aulakh – Punjabi Song

Are you ready

16 वा वी टपेया
17 वा वी टपेया
18 वे विच मुंडा Badnam हो गया
ओये 18 वे विच मुंडा बदनाम हो गया
18 वे विच मुंडा Badnam हो गया

(हिन्दी –

16 वा साल भी गुजर गया

17 वा साल भी गुजर गया

18 वे साल की उम्र में लड़का बदनाम हो गया )

DJ Flow

इक्क हान दी कुड़ी दे नल यारी पाई गयी
इक्क हान दी कुड़ी दे नल यारी पे गयी

दूजी चोरी दी बन्दूक ओहने मूल ले लयी
दूजी चोरी दी बन्दूक ओहने मूल ल लयी

इक्क हान दी कुड़ी दे नल यारी पे गयी
दूजी चोरी दी बन्दूक ओहने मूल ले लयी

तीजा दादे आला असला लकोके पा लेया
चौथा यार दे विआह’ च राती नीट ला गेया
यार दे विआह’ च राती नीट ला गेया

(हिन्दी-

एक हमउम्र लडकी के साथ दोस्ती हो गयी

दूसरी चोरी की बंदूक उसने खरीद ली

तीसरा दादा जी की गोली छुपाके रख ली

चौथा दोस्त की शादी की रात बिना पानी मिलाए शराब पी ली)

badnam Mankirt Aulakh – Punjabi Song

ओये होए ओये..

खून डीजे दे फ्लोर उत्ते खिलरे
मूवी बन दी सी खड़ा स्ट्रीम हो गया

16 वा वी टपेया
17 वा वी टपेया
18 वे विच मुंडा Badnam हो गया
ओये 18 वे विच मुंडा Badnam हो गया
18 वे विच मुंडा बदनाम हो गया

(हिन्दी –

खून डीजे के फ्लोर पर बह गया

फिल्म बननी थी पर खड़ा विवाद हो गया

16 वा साल भी गुजर गया

17 वा साल भी गुजर गया

18 वे में लड़का Badnam हो गया )

Searches related to badnam Mankirt Aulakh

  • बदनाम song
  • badnam Mankirt Aulakh

 औलक – ओला

यह जाटवंश नागवंश की शाखा है। द्वापर युग में उलूक नामक जनपद का शासक इस वंश का उलूक राजा था।

सभापर्व 27-11 तथा 27-58 महाभारत के इन श्लोकों से उलूक नरेश का महाराज युधिष्ठिर की सभा में आना प्रमाणित होता है।

उलूक देशवासियों की ‘औलिक’ नाम से प्रसिद्धि हुई। परम्परागत श्रुति और विद्वानों ने इनकी गणना नागवंश में की है।

पंजाब ही इनकी बहुलता का स्थान है। यहां इन लोगों की जनसंख्या 1941 ई० में इस प्रकार थी –

  • लाहौर 1251,
  • सियालकोट 332,
  • गुजरांवाला 561,
  • अमृतसर 6582,
  •  गुरदासपुर 1028,
  •  मलेरकोटला 669,
  • लुधियाना 792,
  • फिरोजपुर 1540,
  • पटियाला 2742,
  • नाभा 1100
  • यह संख्या 1941 के तत्कालीन भारत सरकार के प्रमाणित जनगणना के आकड़ो से ली गयी है |

इस वंश के सभी जाट सिक्ख थे। अब ये सब पंजाब में हैं। हिन्दू जाटों को औलक या औरे भी कहा जाता है।

यू० पी० में भी ये लोग बसे हैं। जि० अम्बाला में भी इस जाटवंश के कई गांव हैं।

badnam Mankirt Aulakh

Randhir Deswal

Hi, I am Dr. Randhir Singh a Health Blogger from Rohtak Haryana. I am a writer of Treatment and Relief Tips.

You may also like...

1 Response

  1. utkarsh jain says:

    very very very very very very very crore time i say that very nice song and dilkush ho jata he mera maan jomane lagta he per nach lagte hai lips apne aap yeh gane ko dorane lagte hai i love mankrit sir and i love her hair style and i love everyone thing of mankrit sir ji i love you mankrit sir ji aur ek baat aur yeh jaasi,diljit,baadash,jaas,hardy,guri yeh sab tho chutiya pagal ki tara chilate rathe he aur ine kuch nahi ata jata hai but sir yeh baat kise mat khana ok sir have nice day your jayda kuch bola tho nahi reply kare batna mujhe

Leave a Reply