Jatram Blog

छ: गेंद में छ: छक्के मारने वाला जट्ट पुत्र युवराज सिंह – Bhandal गोत्री जाट

Yuvraj Singh Jat Player Punjab क्या युवराज सिंह सिख जाट है ?

अक्सर मुझसे यह सवाल पूछा जाता रहा है इसलिए आज मैं इसका जवाब इस लेख के माध्यम से देना चाहता हूँ | Yuvraj Singh Jat Player

Yuvraj Singh Jat Player का जन्म 12 दिसम्बर 1981 में bhandal / Bhundel जाट परिवार में हुआ था |

इनके पिता योगराज सिंह bhandal पूर्व क्रिकेटर और पंजाबी फिल्म स्टार है | वह 2011 क्रिकेट विश्व कप में मैन ऑफ सीरिज ख़िताब विजेता बने थे |

युवराज की मां मुस्लिम जाट है और उनके पिता एक हिन्दू जाट हैं, इसलिए वह निश्चित रूप से सिख नहीं हैं।

उत्तर भारतीय समाजों में से अधिकांश पितृसत्तात्मक हैं इसलिए उन्हें उनके पिता की पहचान के आधार पर जाट माना जाएगा।

अंत में वह एक अच्छा इंसान है और हम सभी के लिए प्रेरणा है, वैसे भी इन बातों से फर्क नहीं पड़ता वो सिख जाट है या हिन्दू

क्योंकि धर्म बदलने से खून नहीं बदल जाता । अंतिम सच्चाई यह है कि वो एक जाट है |

Yuvraj Singh Jat Player

अपनी माँ शबनम सिंह व पिता योगराज सिंह के साथ Yuvraj Singh Jat Player

करियर Yuvraj Singh Jat Player

एक दिवसीय क्रिकेट में उनका प्रवेश 2000 में हुआ जबकि टेस्ट मैच में उनकी इंट्री 2003 में हुई |

सन 2007 से 2008 तक वह भारतीय टीम के उप कप्तान की भूमिका निभा चुके है |

2007 के ट्वेंटी 20 क्रिकेट विश्व कप में Yuvraj Singh Jat Player ने इंग्लैंड के खिलाफ मुकाबले में स्टुअर्ट ब्रॉड की छ: गेंदों में छ: चक्के मारकर क्रिकेट जगत में खलबली मचा दी थी |

शुरुवाती करियर Yuvraj Singh Jat Player

Yuvraj Singh Jat Player पहली बार उस समय चर्चा में आये थे जब उन्होंने अंडर-19 क्रिकेट सीरिज के मुकाबले में 358 रन की पारी खेली थी | इस कुच बिहार ट्राफी में वो पंजाब टीम में बतौर कप्तान खेल रहे थे |

इस बेहतरीन प्रदर्शन के बाद उन्हें श्रीलंका में जनवरी 2000 में होने वाली अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप में भारतीय टीम में चुना गया था |

इस टीम में वह मोहोम्म्द कैफ की अगुवाई वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे जिसने वह विश्व कप जीता था |

Yuvraj Singh Jat Player

इस विश्व कप में उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया था जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ सीरिज ख़िताब से सम्मानित किया गया था | अब उन्हें बंगलौर के राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में जगह मिली थी |

उन्हें सन 2000 में नैरोबी में हुए ICC नॉकआउट टूर्नामेंट में केन्या के खिलाफ पहली बार अंतराष्ट्रीय एक दिवसीय क्रिकेट मैच खेला और अपने इंटरनेशनल करियर की शुरुवात करी |

इसके बाद उन्होंने दुसरे मैच में आस्ट्रेलिया की प्रसिद्ध बॉलर तिकड़ी ग्लेन मेक्ग्राथ – ब्रेट ली और जेसन गिलेस्पी के विरुद्ध शानदार प्रदर्शन करते हुए 82 गेंद पर 84 रन की पारी खेली |

उस समय आस्ट्रेलिया की इस गेंदबाज़ तिकड़ी से विश्व के अधिकतर बल्लेबाज़ डरे हुए रहते थे |

Yuvraj Singh Jat Player

हम पढ़ रहे है Yuvraj Singh Jat Player

इसके बाद एक दिवसीय खिलाडी के रूप में उन्होंने 2001 में भारत में आस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरिज में कम रन बना पाए |

पर उन्होंने इसी साल शानदार वापसी करते हुए श्रीलंका के खिलाफ मैच में नॉट आउट 98 रन की पारी खेलकर भारत की जीत में अहम योगदान दिया |

जुलाई 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ Nat-West सीरिज फाइनल मुकाबले में महोम्मद कैफ के साथ लम्बी साझेदारी में शानदार पारी खेली जिसके बाद भारत वह सीरिज जीतने में सफल रहा था |

उनकी इस शानदार पारी के बाद Yuvraj Singh Jat Player चयनकर्ताओं की नजरों में चढ़ गये और 2003 में होने वाले विश्व कप में उन्हें भारतीय टीम में भी शामिल कर लिया गया |

उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ पहले मुकाबले में अपना पहला शतक बनाया और इसके बाद उन्होंने जिम्बाब्वे व आस्ट्रेलिया के खिलाफ मुकाबले में अपना दो शतक बनाये|

इनमे एक 119 गेंदों में 139 रन का स्कोर भी शामिल था जो उन्होंने सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर बनाया था |

इंडियन आयल सीरिज में 114 गेंदों में 110 रन का स्कोर बनाया जिसमे उन्होंने मोहोम्म्द कैफ के साथ 165 रन की सांझेदारी शामिल थी | वेस्टइंडीज के खिलाफ इस मैच में वह मैन ऑफ दी मैच रहे थे |

Yuvraj Singh Jat Player

मैच खत्म होने के बाद ड्रेसिंग रम में वह गुस्सा भी हो गये थे जब ग्रेग चेपल भारत के नए कोच बने थे उनसे युवराज का विवाद सुर्ख़ियों में आया था |

चेपल खराब प्रदर्शन के नाम पर उन्हें टीम में रखना नहीं चाहते थे पर Yuvraj Singh Jat Player ने उसी मैच में शतक ठोककर उनको जवाब दिया था |

2005 और 2006 में युवराज एक दिवसीय क्रिकेट में भारत के सुपर स्टार बनकर उभरे थे जो टीम सफल टूर्नामेंट्स में मैन ऑफ सीरिज रहे थे |

यह टूर्नामेंट ग्रीम स्मिथ की दक्षिण अफ्रीका, पाकिस्तान और इंगलैंड के खिलाफ खेली गयी थी |

इन पन्द्रह मुकाबलों में Yuvraj Singh Jat Player ने 3 शतक और 4 अर्द्धशतक जड़े थे |

इस प्रदर्शन की बदोलत वह एक दिवसीय मुकाबलों में विश्व रेंकिंग के पहले दस खिलाडियों में शुमार हुए |

इसके बाद पाकिस्तान के खिलाफ हुई सीरिज में कप्तान राहुल द्रविड़ और उप कप्तान वीरेंद्र सहवाग की अनुपस्थिति में उन्हें टीम का कार्यकारी कप्तान बनाया गया था | उनके चाहने वालों ने उन्हें नवोदित कप्तान के रूप में देखा था |

वेस्टइंडीज में हुई अगली सीरिज में युवराज ने अपने कुल चार मुकाबलों में दो अर्ध शतक जड़े, पर दुर्भाग्य से भारत वह सीरिज 4-1 से हार गया था |

इस साल विश्व क्रिकेट कोंसिल ने उन्हें एक दिवसीय मुकाबलों में ”प्लेयर ऑफ दी इयर” के पुरस्कार से सम्मानित किया |

पारिवारिक जीवन Yuvraj Singh Jat Player

जब Yuvraj Singh Jat Player अपने शुरुआती किशोर अवस्था में थे, तो वह एक दिन घर पर कुछ मैडल लाये थे जो उन्होंने स्केटिंग के लिए जीता था।

उनके पिता योगराज सिंह की उन पर नजर गयी और उन्हें फेंक दिया। उसके बाद उनके स्केट्स को भी जल्दी नष्ट कर दिया गया था।

आप Yuvraj Singh Jat Player के क्रिकेट करियर का विश्लेषण तब तक नहीं कर सकते हैं, जब तक यह न जान ले कि बचपन के दिनों में घर पर सीमेंट की बनी एक विकेट पर ट्यूब लाइट रोशनी में निरंतर अभ्यास को न देखे |

Yuvraj Singh Jat Player

उनके पिता योगराज सिंह ने 1981 में वेलिंगटन में भारत के लिए एक टेस्ट खेला |

इसके कुछ महीने पहले युवराज का जन्म हुआ था। एक अभागा चरित्र, कुछ लोग कहते हैं कि वह दुर्भाग्यशाली था कि वह अधिक नहीं खेल पाया ।

उन दिनों में भारतीय क्रिकेट की चयन एक संदिग्ध व्यवसाय थी | योगराज सिंह ने अपने दु: ख को निगल लिया और पंजाबी फिल्मों की दुनिया में चला गया |

उन्होंने कई सफल फिल्मों में काम किया, जिसमें ”इंसाफ” और ”जाट पंजाब दा” शामिल थी ।

अक्सर स्क्रीन पर एक खलनायक (विलेन) का किरदार निभाने वाले योगराज जाट, साथ साथ वह एक नये क्रिकेटर Yuvraj Singh Jat Player के अभिभावक भी थे | जिम पिएर्स और यूरी शारापोव युवराज के कोच थे ।

इनमें से एक ने नेट सत्र में युवराज सिंह को अपनी बारी का काफी इंतजार कराया । योगराज ने गले से कोच पकड़ा और उसे बताया कि उनके बेटे को पहली प्राथमिकता नहीं मिली तो उसके परिणाम बुरे होंगे ।

we are reading Yuvraj Singh Jat Player

पहला टेस्ट – युवराज अपने पिता की छाया से बाहर निकलने के लिए एक टेस्ट रोल तैयार करता है |

एक ऑन स्क्रीन खलनायक के बेटे, युवराज सिंह अब मोहाली में स्पॉटलाइट में खुद को देख रहे हैं | युवराज सिंह डूबती भारतीय पारी को कुछ गति देता है।

भारत के लिए Yuvraj Singh Jat Player की पहली पारी 2000 में आईसीसी नॉकआउट में स्टीव वॉ के आस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के खिलाफ एक शानदार 84 रन की थी,

लेकिन उन्हें मोहाली के अपने घरेलू मैदान पर टेस्ट मैच खेलने के लिए तीन साल से अधिक समय तक इंतजार करना पड़ा।

केविन पीटरसन जो उनसे लगभग दो गुना (45) बड़े थे, उन्होंने श्रृंखला के दौरान कई सुखद अनुभव किए,

वो कहते है Yuvraj Singh Jat Player के रूप में भारत के मध्य क्रम में अडिग पत्थर स्थापित किया गया है |

Yuvraj Singh Jat Player की कामयाबी की संभावनाएं ड्रिप-फीड जैसी हैं । यह केवल उनकी 25वीं टेस्ट है, हालांकि उन्होंने केवल तीन साल पहले अपना पहला मैच खेला था।

Yuvraj Singh Jat Player

Yuvraj Singh Jat Player

कुछ लोग कहते है सौरव गांगुली के टेस्ट क्रिकेट सन्यास ने  Yuvraj Singh Jat Player को मौका दिया था,

हालांकि कई लोग इस पर संदेह करते थे कि गांगुली के एक साल पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद से लगातार काफी निराशाजनक प्रदर्शन के बाद यह होना ही था।

गांगुली की विदाई के बाद टीम की अगुवाई करने वाले वीरेंद्र सहवाग की कृपा से शुरुआती दो टेस्ट मैचों में अपना रास्ता खुलने के बाद युवराज को फिर से बहाल किया गया था और भारत की किस्मत तुरंत बदल गई।

Yuvraj Singh Jat Player

Searches related to Yuvraj Singh Jat Player
  • yograj singh caste
  • yuvraj singh cast
  • bhundel caste
  • yuvraj singh home
  • Virender Sehwag
  • yuvraj singh biography

jat actors in bollywood list

Yuvraj Singh Jat Player

ashish nehra 

yuvraj singh father

Yuzvendra Chahal 

yuvraj singh full name

Yuvraj Singh Jat Player

Randhir Deswal

Hi, I am Randhir Singh a Solo Travel Blogger form Rohtak Haryana. I am a writer of Lyrics and Quotes.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *