रोहतक के डिप्टी वोल्स्टर से दीनबन्धु छोटूराम की टक्कर

sir chhotu ram history जब अंग्रेज डिप्टी कमिश्नर मिस्टर वोल्स्टर से झडप हुई तो दीनबन्धु सर छोटूराम ने उसे ऐसा झटका दिया कि न उसकी इज्जत बची न ही कोई रौब | वह केवल हाथ मलता रहा गया | sir chhotu ram history

दोस्तों आपने मिस्टर वोल्स्टर से टक्कर का पिछला अध्याय sir chhotu ram history पढ़ लिया होगा अब हम आगे इस घटना को जारी रखते है | अगर आपने पिछला अध्याय नहीं पढ़ा तो आपको यह स्टोरी पूरी तरह समझ नहीं आएगी |

इस कहानी sir chhotu ram history का पहला भाग पढने के लिए यहाँ क्लिक करे deenbandhu sir chhotu ram 

चलिए शुरू करते है | निर्वासन तो नहीं हुआ किन्तु मिस्टर वोल्स्टर ने चौधरी छोटूराम के विरुद्ध ब्रिटिश किंग के खिलाफ विद्रोहात्मक प्रचार करने के आरोप में भारतीय दंड संहिता की धारा 124 A के तहत मुकदमा चलाने की आज्ञा प्राप्त कर ली |

उसने सोचा कि या तो मुकदमें के दौरान छोटूराम माफ़ी मांग लेगा या जेल में सड़ेगा| जहाँ उसकी सारी ऐंठ निकल जाएगी किन्तु वोल्स्टर का यह वार भी खाली गया |

लाहौर में जब यह खबर पहुंची तो चौधरी लालचंद, सर उमर हयात खान, सरदार बहादुर गज्जन सिंह और सर सैय्यद मेहँदी शाह का डेपुटेशन गर्वनर पंजाब के पास पहुंचा | sir chhotu ram history

उन्होंने कहा यदि सर चौधरी छोटूराम जैसे विवेकशील व्यक्ति पर एक डिप्टी कमिश्नर के कहने से विद्रोही संदेह किया जा सकता है तो कल हम सब विद्रोही समझे जायेंगे | गवर्नर साहब ने मुकदमा चलाने का आर्डर रद्द कर दिया |

sir chhotu ram history

एक हिन्दुस्तानी के मुकाबले में एक अंग्रेज़ को नीचा देखना पड़े यह बात वोल्स्टर को कब सहन हो सकती थी | उसने गवर्नर को चौधरी छोटूराम की जमीन जब्त करने की सिफारिस कर डाली |

पर ग्रामीण जनता के लगातार विरोध के कारण एक साल तक उन्हें जमीन का कब्जा न मिला,  यहाँ भी वोल्स्टर को मुंह की खानी पड़ी | फिर भी वह अंग्रेज़ अफसर चुप नहीं बैठा | sir chhotu ram history

हम पढ़ रहे है sir chhotu ram history

sir chhotu ram history

अब डिप्टी ने हाई कोर्ट को एक पत्र लिखा कि चौधरी छोटूराम, मीर मुस्ताक हसन, लाला श्यामलाल, लाला लालचंद जैन और चौधरी नवल सिंह पर ”लीगल प्रेक्टिशनर एक्ट” का  मुकदमा चलाया जाये | sir chhotu ram history

हाई कोर्ट ने तत्कालीन सेशन जज लाला शिब्बन लाल को इस मामले की जाँच व सुनवाई के लिए नियुक्त किया, किन्तु उन दिनों चौधरी छोटूराम की यूनियनिस्ट पार्टी की समान आर्थिक हितों वाली नीतियों के चलते हिन्दू मुस्लिम में बहुत बड़ी एकता थी और एक अंग्रेज़ 5 हिन्दुस्तानियों को नीचा दिखाना चाहता था |

इसलिए उसे न कोई हिन्दू न ही कोई मुसलमान गवाह मिला और न ही किसी ने किसी भी तरह का कोई सहयोग ही किया |

अब वोल्स्टर ने लाला रामशरण दास को  भेजकर समझौता करके इज्जत के साथ मुकदमा खत्म करने की कोशिस की |

sir chhotu ram history

लेकिन चौधरी छोटूराम ना तो माफ़ी मांगने के लिए तैयार हुए न ही उन्होंने यह कहा कि उनके ऊपर से मुकदमा उठा लिया जाये |

लाला रामशरण ने चौधरी साहब को यहाँ तक कहा कि मैं ही आपकी तरफ से माफ़ी मांगकर मिस्टर वोल्स्टर से मुकदमा उठाने के लिए कह दूँ

पर चौधरी छोटूराम को यह भी स्वीकार न था | उन्होंने साफ़ कह दिया कि एक अंग्रेज़ अपने अधिकार के बल पर चाहे जैसा मुकदमा चलाकर हमे दबाने की कोशिस करता है | उसके सामने दब जाने का मतलब है हमारा अपने खून को कायर बताना |

sir chhotu ram history

इस समय सवाल एक हाकिम और एक वकील का नहीं है, सवाल है एक हिन्दुस्तानी और अंग्रेज़ का |

मुझे विश्वास है जीत हमारी ही होगी क्योंकि हम सत्य पर अडिग है | अत: लाला रामशरण खाली हाथ वोल्स्टर के पास लौट आये |

sir chhotu ram history

हुआ भी यही सेशन जज लाला शिब्बन लाल ने रिपोर्ट पेश कर दी कि इस प्रकार का कोई सबूत नहीं है जिनसे इन लोगों पर मुकदमा चलाया जा सके |

हाई कोर्ट ने भी सबूतों के अभाव में फाइल को दफ्तर दाखिल करने का निर्णय दे दिया | मिस्टर वोल्स्टर हाथ मलता रहा गया |

Searches related to sir chhotu ram history

sir chhotu ram history

Randhir Deswal

Hi, I am Randhir Singh a Solo Travel Blogger form Rohtak Haryana. I am a writer of Lyrics and Quotes.

You may also like...

Leave a Reply