Jatram Blog

indian navy chief sunil lanba | एडमिरल लांबा

हमारा आज का विषय है indian navy chief sunil lanba

indian navy chief sunil lanba का जीवन परिचय

जन्म – 17 जुलाई 1957

जन्मस्थान – गांव अमरपुर, जिला पलवल, हरयाणा

पिता का नाम- राजेन्द्र लाम्बा

माता का नाम – बिमला लांबा

नैवी में सेवाकाल- 1 जनवरी से अभी तक

वर्तमान पद – पश्चिमी नौसेना कमान में फ्लेग आफिसर कमांडिंग इन चीफ

आवार्ड – परम विशिष्ट सेवा मेडल, अति विशिष्ट सेवा मेडल

धर्मपत्नी- रीना लाम्बा

संतान- दो पुत्रियां एक पुत्र

शिक्षा indian navy chief sunil lanba

श्री लांबा जी ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा सुप्रसिद्ध मेयो कॅालेज अजमेर से पूर्ण की । तत्पश्चात आपने Royal Collage Of Defence Studies से नेशनल डिफेंस सर्विस की पढाई की ।

आपने Defence And Management Studies से पोस्ट ग्रेजुएसन भी किया है ।

indian navy chief sunil lanba

 

सेवाकाल chief sunil lanba

आपने भारतीय नौसेना में अपनी सेवा आफिसर पद से 1 जनवरी 1978 से शुरू की । इस दौरान आपको विभिन्न पोतों पर सेवा का मौका मिला ।

उच्च स्तर की विशिष्ट सेवा के लिए उन्हें परम विशिष्ट सेवा पदक और अति विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया जा चुका है ।

वे आईएनएस सिंधुदुर्ग (करवेट) और आईएनएस दुनागिरि (फ्रिगेट) के नेविगेटिंग ऑफिसर रह चुके हैं ।

उन्होंने पूर्व में फ्रंटलाइन युद्धपोतों आईएनएस काकीनाडा (माइनस्वीपर),आईएनएस हिमगिरि (फ्रिगेट), आईएनएस रणविजय और आईएनएस मुंबई (विध्वंसक) की कमान भी संभाली है ।

indian navy chief sunil lanba

देशभक्ति के जुनून तथा बेदाग व ईमानदार छवि को देखते हुए 2 जून 2014 को आपको भारतीय नौसेना का वायस एडमिरल बनाया गया । आपका यह कार्यकाल 30 मार्च 2015 तक रहा ।

वर्तमान में आप पश्चिमी नौसेना के फ्लेग आफिसर कमांडींग इन चीफ के पद पर सुसोभित है । जिसका मुख्यालय मुंबई में है ।

इसके अलावा अभी आप नेशनल डिफेंस कोलेज के कमांडेट भी है । 05 मई 2016 को आपको भारतीय नौसेना का एडमीरल पद देने की घोषणा की गई ।

वर्तमान में इस पद पर RK धवन जी है । श्री लाम्बा जी ने 31 मई को एडमिरल पद की शपथ ली।

सम्पूर्ण देश व किसान कौम को आप पर नाज है । हम सभी की यही दुआ है कि आप पद पर रहते अनेको इतिहास रचो ताकि देश व कौम का सर फक्र से ऊंचा हो जाये ।

समाचार पत्रों से sunil lanba

सुनील लांबा के पैतृक गांव अमरपुर में खुशी का माहौल, बांटी मिठाई, पलवल ।: पलवल जिले के पृथला विधानसभा क्षेत्र का गांव अमरपुर ।

बृहस्पतिवार की देर शाम जब गांव में ये सूचना पहुंची कि उनके गांव के सुनील लांबा नौसेना में सबसे बड़े पद यानी एडमिरल होंगे, तो ग्रामीणों की खुशी का ठिकाना न रहा ।

ग्रामीणों को यह जानकारी मिलने के बाद वो वर्तमान में वाइस एडमिरल सुनील लांबा के पैतृक निवास पर बधाई देने पहुंचे, जहां सुनील के चाचा का परिवार रहता है।

सुनील लांबा की जमीन जायदाद व बाग आज भी गांव में है तथा वे भी अक्सर गांव में आते रहते हैं।

सुनील के 83 वर्षीय सगे चाचा धर्मवीर लांबा पेशे से किसान हैं। उन्होंने बताया कि उनके भाई यानी सुनील लांबा के पिता राजेंद्र सिंह लांबा द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान सेना के शिक्षा विभाग में कमांडर के पद से रिटायर हुए। बाद में वे सहकारी समितियों के उप रजिस्ट्रार रहे।

उनकी माता बिमला लांबा फिलहाल दिल्ली में रह रही हैं। सुनील के भाई अनिल जिसे प्यार से छोटू कहते हैं, भी नेवी से लेफ्टीनेंट के पद से रिटायर हुए हैं। सुनील लांबा की चाची सरिता लांबा का कहना है कि indian navy chief sunil lanba पिछली बार सितंबर माह में गांव आया था।

chief sunil lanba

वह बहुत ही मिलनसार है। उनकी पत्नी रीना का स्वभाव भी काफी अच्छा है। रीना घरेलू महिला है। सुनील को पकवान पसंद नहीं है। उसे कढ़ी-चावल, साग, छाछ पसंद है। उन्हें बच्चों से काफी प्यार है। वह अक्सर टेलीफोन पर गांव में बात करता रहता है। वह जैसा सरल स्वभाव का बचपन में था, वैसा ही आज भी है।

मुझे बहुत खुशी हुई है कि मेरा भाई इतने बड़े पद पर पहुंच कर देश की सेवा करेगा। मेरी प्रसन्नता का ठिकाना नहीं है। -अरूण लांबा, सुनील लांबा का चचेरा भाई।

मैं बेहद खुश हूं। पिछली बार जब वे गांव आए थे तो मुझसे कहा था कि मैं अपने बेटे को उनके पास भेज दूं। -ममता लांबा, सुनील लांबा की भाभी ।

यह गांव व इलाके के लिए गौरव की बात है। सुनील लांबा ने अमरपुर का नाम देशभर में रोशन कर दिया। मैंने इस खुशी में मिठाई भी बांटी है। -राजीव लांबा, गांव निवासी ।

लेखक

बलवीर घिंटाला तेजाभक्त

Dalbir Suhag 

indian navy chief sunil lanba

indian navy chief

Military career

Lamba was commissioned into the Indian Navy as an officer on 1 January 1978 into the Executive Branch of Indian Navy as a Navigation and Direction specialist.

He served as a navigation officer on board INS Sindhudurg (K72) and INS Dunagiri (F36) before serving as the Commanding Officer (CO) of various ships: minesweeper INS Kakinada, frigate INS Himgiri (F34),

INS Ranvijay (D55) and INS Mumbai (D62). He also served as Executive Officer of aircraft carrier INS Viraat (R22).

Lanba later served as the Chief of Staff of the Southern Naval Command and then as the Flag Officer of the Sea Training and of the Maharashtra and Gujarat Naval Area.

After attaining the rank of Vice Admiral, he served as the Chief of Staff of the Eastern Naval Command and later as the Commandant of the National Defence College, India until his appointment as the Vice Chief of Naval Staff. He has also served as the Fleet Operations officer of the Western Naval Command based in Mumbai.

Lanba served as the Flag Officer Commanding-in-Chief (FOC-in-C) of the Southern Naval Command before assuming his charge as FOC-in-C Western Naval Command on 31 January 2016, succeeding Vice Admiral SPS Cheema.

On 5 May 2016, the Union Government announced that Lanba would take charge as the Chief of the Naval Staff with effect from the afternoon of 31 May 2016, replacing Admiral Robin K. Dhowan who retired the same day.

Awards

  • Param Vishisht Seva Medal
  • Ati Vishisht Seva Medal

Randhir Deswal

Hi, I am Randhir Singh a Solo Travel Blogger form Rohtak Haryana. I am a writer of Lyrics and Quotes.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *