डबास गोत्र का इतिहास – legends of Dabas

दोस्तों आज हम आपको dabas jat gotra history के बारे में जानकारी देंगे |

जिसमे इनके इतिहास के साथ साथ वर्तमान समय में प्रमुख व्यक्तियों की सूचि भी शामिल है |

dabas jat gotra history

dabas jat gotra history

उल्लेखनीय व्यक्ति

  1. प्रवीण डबास – अभिनेता, परिचय बताने की जरूरत नहीं है। मानसून वेडिंग और खोसला का घोसला जैसी फिल्मों में उनकी सर्वश्रेष्ठ भूमिकाओं के लिए उन्हें  याद किया जाता  है। सिंधी सुंदर अभिनेत्री प्रीती जिंगियानी से शादी कर ली है |
  2. नेहा डबास  – रेसर
  3. रिया डबास – रेसर
  4. आर एस dabas jat gotra history
  5. जे सी डबास – आईपीएस, दिल्ली
  6. आजाद सिंह डबास – आईएफएस, मध्य प्रदेश, 1985 बैच
  7. जयदीप डबास – एक व्यवसायी, वह दिल्ली के सुल्तानपुर डबास गांव के एक समृद्ध परिवार के हैं। उनके पिता हरि सिंह प्रधान बाहरी दिल्ली के एक प्रसिद्ध राजनीतिक हैं। dabas jat gotra history
  8. राजेश डबास उर्फ़ खन्ना – पूठ सुल्तानपुर
  9. अजीत सिंह डबास – चौधरी अजीत सिंह के नाम से जाना जाता है, कंझावला दिल्ली
  10. डॉ पूर्ण सिंह डबास – साहित्यकार, भाषा विज्ञान।
  11. मांगू सिंह डबास – मेट्रो प्रमुख दिल्ली, मोब: 9810079018
  12. सुनील डबास – द्रोणाचार्य पुरस्कार प्राप्तकर्ता, कोच राष्ट्रीय महिला कबड्डी, गुड़गांव (जाट ज्योति: 11/2012, पी .28)
  13. पूर्ण सिंह डबास – सेवानिवृत्त प्रोफेसर (2000) जन्म तिथि: 1038/10/07। दिल्ली विश्वविद्यालय और पिकिंग में प्रोफेसर के रूप में कार्य किया मूलतः मेजर डबास से दिल्ली में निवास, पता: एम -93, साकेत, नई दिल्ली Mob: 9818211771
  14. अद्यास डबास – आईआरएस (सी एंड सीई) -2014, रैंक – 423 एम: 9891938104

dabas jat gotra history

डबास dabas jat gotra history यह डबास गोत्र दहिया जाट गोत्र की शाखा है।

dabas jat gotra history

दोनों गोत्रों का भाईचारा है इसीलिए 40 साल पहले तक दोनों के आपस में रिश्ते-नाते नहीं होते थे ।

इन दोनों गोत्रों के जाट विदेशों में तथा भारत में साथ-साथ रहे हैं।

dabas jat gotra history आज भी ये दोनों गोत्र साथ-साथ आबाद हैं।

डबास जाट छठी शताब्दी ईस्वी पूर्व कैस्पियन सागर के दक्षिण-पूर्व में बसे हुए थे।

इनके साथ-साथ दहिया जाट भी उसी क्षेत्र में आबाद थे जिनके नाम पर यह सागर दधी सागर कहलाया था।

यूनान के प्रसिद्ध इतिहासकार हेरोडोटस ने अपनी भाषा में डबासों का नाम डरबिस (Derbice) लिखा है।

dabas jat gotra history

सीथिया देश (मध्य एशिया) का एक प्रांत मस्सागेटाई जाटों का एक छोटा तथा शक्तिशाली राज्य था जिसकी रानी तोमरिस थी।

529 ई० पू० में इस रानी की जाट सेना का युद्ध महान् शक्तिशाली सम्राट् साईरस से हुआ था।

इस युद्ध में सम्राट् साईरस मारा गया और जाट महारानी तोमरिस विजयी रही।

इस युद्ध में दहिया/डबास जाट महारानी की ओर से साईरस के विरुद्ध लड़े थे।

dabas jat gotra history

जब दहिया जाटों का राजस्थान में राज्य समाप्त हो गया तब ये लोग डबास जाटों के साथ हरयाणा में जि० रोहतक झज्जर व सोनीपत में आकर आबाद हो गये।

डबास जाटों के गांव निम्न प्रकार से आबाद हैं –

जिला झज्जर में MP माजरा, जहाजगढ़ कुछ घर दुजाना में भी है जो कुलताना रोहतक से आकर बसे थे |

नया बांस में डबास जाटों के कुछ परिवार है जबकि गनौर सोनीपत के पास गुम्मड गाँव में भी डबास गोत्र के जाट रहते है |

दिल्ली प्रान्त में सोनीपत तहसील की सीमा के निकट कंझावला डबास खाप का प्रधान गांव है।

रसूलपुर, सुलतानपुर, पूंठ, घेवरा, रानीखेड़ा, मारगपुर, लाडपुर, मदनपुर, चांदपुर, माजरा डबास, बड़वाला आदि गांव डबास जाटों के हैं।

इधर से ही निकास प्राप्त करके डबास जाट जिला बिजनौर में आकर बसे।

इस जिले में पीपली, डबासोंवाला, सिकैड़ा, पाड़ली, लाम्बाखेड़ा (कुछ घर), मण्डावली, मुजफरा, झिलमिला और नगीना आदि डबास जाटों के गांव हैं।

dabas jat gotra history

dabas jat gotra history

यह भी पढ़े –  dabas jat gotra history

legend of Deswal 

legends and gems of Dahiya 

dabas jat gotra history

Legends and Gems of Beniwal

chahar jat gotra 

grewal jat gotra history 

gill jat gotra history 

जाट गोत्र की लिस्ट 

Narwal Jat Gotra History 

dabas jat gotra history

Randhir Deswal

Hi, I am Randhir Singh a Solo Travel Blogger form Rohtak Haryana. I am a writer of Lyrics and Quotes.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *